Album Baaghi
Artist Kavita, Kumar Sanu
Year 2000
Genre Happy

Loading…

Khai Hai Kasam Lyrics | Kavita, Kumar Sanu


Milte milte hum donon yun ho baithe deewane
Milte milte hum donon yun ho baithe deewane
Ik dooje ke pyaar men khoe duniyaa se begaane
Ab kyaa ho anjaam hamaaraa ye to rab hi jaane
Khaai hai kasam, ai hamasafar
Mar jaaenge tumhen na paa sake ham agar


O khaai hai kasam,ai hamasafar
Mar jaaenge tumhen na paa sake ham agar

Milate milate ham donon yun ho baithe divaane
Ik dooje ke pyaar men khoe duniyaa se begaane


Kahane lagi, ye zindagii, sapane bahaaron ke bun lo
Lag kar mere, sine se tum, is dil kaa paigaam sun lo


Hosh khone lage dil men toofaan jaage
Aaj hamase to kuchh naa kaho
Manzilen pyaar ki de rahi hain sadaa
Bas yun hi saath chalate raho


Ab kyaa ho anjaam hamaaraa ye to rab hi jaane
Khaai hai kasam, ai hamasafar
Mar jaaenge tumhen na paa sake ham agar



Naazuk hai dil, dil kaanch saa, patthar ke jaisi hain rasmen
Tum saath ho jab tak sanam rasmen hain sab apane bas men


Ik ho jaaenge rasmon ko todakar
Is jahaan se darenge naa ham
Pyaar ke vaaste jaan jaae magar bevafaai karenge naa ham

Loading…




Ab kyaa ho anjaam hamaaraa ye to rab hi jaane
Khaai hai kasam, ai hamasafar
Mar jaaenge tumhen na paa sake ham agar


Khaai hai kasam, ai hamasafar
Mar jaaenge tumhen na paa sake ham agar

Kavitaa;
Milate milate ham donon yun ho baithe divaane


Ik dooje ke pyaar men khoe duniyaa se begaane

Both:
Ab kyaa ho anjaam hamaaraa ye to rab hi jaane
Khaai hai kasam, ai hamasafar

सानु:
मिलते मिलते हम दोनों यूं हो बैठे दीवाने-२
इक दूजे के प्यार में खोए दुनिया से बेगाने
अब क्या हो अंजाम हमारा ये तो रब ही जाने
खाई है कसम, ऐ हमसफ़र
मर जाएंगे तुम्हें न पा सके हम अगर

कविता:
ओ खाई है कसम,ऐ हमसफ़र
मर जाएंगे तुम्हें न पा सके हम अगर

मिलते मिलते हम दोनों यूं हो बैठे दीवाने
इक दूजे के प्यार में खोए दुनिया से बेगाने

सानु:
कहने लगी, ये ज़िंदगी, सपने बहारों के बुन लो
लग कर मेरे, सीने से तुम, इस दिल का पैगाम सुन लो

कविता:
होश खोने लगे दिल में तूफ़ां जगे
आज हमसे तो कुछ ना कहो

Loading…



मंज़िलें प्यार की दे रही हैं सदा
बस यूं ही साथ चलते रहो

सानु:
अब क्या हो अंजाम हमारा ये तो रब ही जाने
खाई है कसम, ऐ हमसफ़र
मर जाएंगे तुम्हें न पा सके हम अगर


कविता:
नाज़ुक है दिल, दिल काँच सा, पत्थर के जैसी हैं रस्में
तुम साथ हो जब तक सनम रस्में हैं सब अपने बस में

सानु:
इक हो जाएंगे रस्मों को तोड़कर
इस जहां से डरेंगे ना हम
प्यार के वास्ते जान जाए मगर बेवफ़ाई करेंगे ना हम

कविता:
अब क्या हो अंजाम हमारा ये तो रब ही जाने
खाई है कसम, ऐ हमसफ़र
मर जाएंगे तुम्हें न पा सके हम अगर

सानु:
खाई है कसम, ऐ हमसफ़र
मर जाएंगे तुम्हें न पा सके हम अगर

कविता;
मिलते मिलते हम दोनों यूं हो बैठे दीवाने

सानु:
इक दूजे के प्यार में खोए दुनिया से बेगाने

दोनों
अब क्या हो अंजाम हमारा ये तो रब ही जाने
खाई है कसम, ऐ हमसफ़र





If you notice any mistake in lyrics of Khai Hai Kasam song, please let us know in comments.

1000

Loading…

Popular Songs

Loading…

About FilmyDOG

Filmydog.com is the latest Song lyrics website, for all the Indian song lovers. Read & feel the best lyrics reading experience, with the best songs in India ❤️